Oct 27, 2018

Printer क्या है और कितने प्रकार के होते हैं तथा कैसे कार्य करते हैं?

पिछली पोस्ट में हमने आपको कंप्यूटर की संरचना और कार्य के बारे में विस्तार से बताया था जिसमे हमने Hard Copy Output के बारे में कुछ बताया था। इस लेख में हम Printers के बारे में बताएँगे जो हार्ड कॉपी आउटपुट यूनिट में आते हैं। Printers क्या है और ये कितने प्रकार के होते हैं इसकी जानकारी आपको इस पोस्ट में बताई जाएगी। Printers एक Device है जिसका Computer System के साथ उपयोग किया जाता है।

printer kya hai printers kitne prakar ke hote hain printers ke bare me full jankari, printer kaise kaam karta hai, printers me kya hota hai printer ko kaise banaya jata hai printer ke drum aru ribbon ke bare me information

प्रिंटर्स के नहीं होने से कंप्यूटर पर कोई भी प्रभाव नहीं पड़ता है लेकिन जब हमे हार्ड कॉपी आउटपुट प्रिंट निकलने के लिए इनकी आवश्यकता पड़ती है। जब हम कंप्यूटर पर कोई भी data तैयार करते हैं तो उसको Paper पर छपने के लिए Printers का ही सहारा लिया जाता है। प्रिंटर भी कई प्रकार है होते हैं जिनको अपने काम के हिसाब से प्रयोग किया जाता है। आइये इनके बारे में डिटेल से समझते हैं।


Printers कितने प्रकार के होते हैं तथा यह कैसे कार्य करते हैं 

प्रिंटर्स को मुख्यतः तीन भागों में बांटा गया है जानिए प्रिंटर्स की आन्तरिक संरचना के बारे में
  1. Character Printer
  2. Line Printer
  3. Page Printer
आइये अब हम इनके बारे में एक - एक करके बाते करेंगे तथा जानेगे की यह किस तरह से Work करते हैं और कंप्यूटर इनको कैसे निर्देश देता है।

Character Printers (करैक्टर प्रिंटर)

Character printers उन प्रिंटर्स को कहा जाता है जो एक बार में एक ही अक्षर को प्रिंट कर सकते हैं। यानि इनको चरेक्टेर प्रिंटर्स इसलिए ही कहते हैं की ये सिर्फ One character को एक ही बार ही छापते हैं। इनमे अक्सर प्रयोग किये जाने वाले प्रिंटर्स Character Printer, Daisy Wheel Printer, Dot Matrix Printer आदि हैं।
Dot Matrix Printers
Dot Matrix Printers वे प्रिंटर्स होते हैं जो प्रत्येक अक्षर को डॉट के रूप में प्रिंट करते हैं। यानि इन प्रिंटर्स के द्वारा Characters को "." (dot) की तरह छापा जाता है। इसलिए इनको Dot Matrix Printer कहा जाता है। इन प्रिंटर्स के हेड, पिन की Matrix से बने होते हैं। मैट्रिक्स का Size लगभग 5x7, 7x9, 9x7, 9x9 होता है। Head से Pin Character की form के Size में dot के रूप में बाहर निकलती है व अक्षर डॉट के रूप में छपाई होकर डॉट की तरह दिखाई देता है। इस Printer के Buffer paper के Size के समान होते हैं।

अगर paper की चौड़ाई 80 अक्षर की होती है तो बफर भी 80 Character का ही प्रयोग किया जाना चाहिए। ये प्रिंटर दो Direction में Work करते हैं। अगर Printer First character से Start की है तो 80 Character print करने के बाद Right side में प्रिंटर के Buffer(बफर) में 80 character Store हो जाते हैं और ये Right side से printing करना Start कर देता है। यह थी डॉट मैट्रिक्स प्रिंटर्स के बारे में सूचना अब देखते हैं अगले प्रिंटर्स कैसे कार्य करते हैं।


Daisy Wheel Printers (डेज़ी व्हील प्रिंटर)

इस Printer में Head एक Wheel की तरह होता है तथा Character की पिन डेज़ी के फूल के समान होती है। इस कारन इसे डेज़ी व्हील प्रिंटर कहा जाता है। यह प्रिंटर भी Impact printer होता है। Wheel print होने वाले अक्षर को प्रिंट होने वाले स्थान पर लेकर आती है तथा अक्षर रिबिन (Ribbon) से टकराता है व रिबिन पेपर से इस प्रकार इसके द्वारा अक्षर प्रिंट होते हैं।

Inkjet Printers (इंकजेट प्रिंटर)

यह Character Printer तथा Non Impact प्रिंटर होता है। इसके head में एक jet लगा हुआ होता है। निचे की तरफ छोटे- छोटे छिद्र (hole) होते हैं। Jet में स्याही (ink) भरी होती है। यह प्रिंट होने पर अक्षर को कागज पर स्याही की बूंद के रूप में स्प्रे करके प्रिंट करता है। ये प्रिंट करते समय आवाज नहीं करते हैं क्योंकि इनमे हेयर टेक्नोलॉजी का प्रयोग किया जाता है। इस प्रकार के प्रिंट में रिबिन का प्रयोग नहीं किया जाता है तथा इसकी Printing Quality बहुत बढ़िया होती है।


Line Printers (लाइन प्रिंटर)

Line Printers वे प्रिंटर होते हैं जो एक बार में सूचना की एक ही लाइन को छापते हैं। इनकी Print करने की गति Character Printers से ज्यादा होती है। Chain Printer और Drum Printer इसी का एक हिस्सा है। तो आइये तो इनके बारे में भी थोड़ी जानकारी ले लेते हैं।

Chain Printers (चैन प्रिंटर)

इसमें head chain के रूप में होता है तथा इस चैन में पूर्व परिभाषित करैक्टर व विशेष चिन्ह कई केटेगरी में लगे होते हैं। चैन अपने स्थान पर तेज गति से घुमती रहती है। जो अक्षर प्रिंट होना होता है उसके ठीक Position में आने पर करैक्टर के पीछे चोट दी जाती है। चोट लगने पर अक्षर अपने Character अपनी सामान्य Condition से थोडा बाहर आता है तथा रिबिन से टकराता है। इसके बाद स्याही वाला रिबिन कागज से टकराता है। इस तरह से अक्षर और लाइन प्रिंटिंग होती हैं। यह Printer एक बार में एक लाइन को पढता है उसके बाद एक लाइन को कागज पर छापता है।

Drum Printers (ड्रम प्रिंटर)

इन Printers में Head की आकृति गोल होती है जो एक गोल ड्रम के आकार के जैसे दिखाई देती है। इस head पर पहले से ही अक्षर Printed होते हैं। जैसा की आपने Steno Printing करते हुए किसी Stenographer को देखा होगा और STD Machine में invoice printing के लिए इसका ही प्रयोग किया जाता है। गोलाकार ड्रम जैसा हेड अपने स्थान पर घूमता रहता है। Character को print करते समय यह ड्रम printer की ribbon से जाकर टकराता है तथा ribbon paper से टकराता है। यह प्रिंटर एक line को एक बार में print कर देता है।


Page Printers (पेज प्रिंटर)

यह बहुत ही जबरदस्त प्रिंटर होता है। इसकी क्षमता और गति बहुत तेज होती है। यह एक बार में एक ही page print करते हैं। इसकी प्रिंट करने की गति काफी तेज होती है। इस प्रकार की Technology को Laser Printer में use किया जाता है। आइये Laser प्रिंटर के बारे जान लेते हैं पेज प्रिंटर को अच्छी तरह समझने के लिए आपको लीसेर प्रिंटर के बारे में पढने की आवश्यकता है।

Laser Printers (लेजर प्रिंटर)

आपने Photo copy करने की मशीन तो देखी होगी। Laser printer भी इस machine की तरह कार्य करता है। इस प्रिंटर में photo को detect करने के लिए लेजर बीम का प्रयोग किया जाता है। photo detect होने के बाद drum के संपर्क में आती है तथा drum paper के साथ घूमता है। जिससे कागज पर छपाई होती है। इस तरह से यह laser प्रिंटर एक बार में एक पेज का प्रिंट कर देते हैं। यह प्रिंटर प्रिंटिंग करने में बहुत तेज होते हैं। इनकी प्रिंटिंग करने की गति और क्षमता का अंदाजा आप इससे ही लगा सकते हैं की यह एक minute में 5 से 20 Page print कर सकते हैं। काफी तेज होने के बावजूद इनकी Printing Quality बहुत शानदार होती है।
दोस्तों अब तो यह आधुनिक युग है और आज के दौर में Technology बहुत आगे निकल चुकी है। इसलिए नयी-नयी तकनीक वाले Printer market में आ रहे हैं। इस टाइम में आपको एक से बढ़कर एक प्रिंटर मिल जायेगा। हमने इस पोस्ट को आपकी knowledge और ज्ञान के लिए लिखा है ऐसी जानकारी life में बहुत काम आ सकती है। इससे आपको Computerized Exam में बहुत लाभ हो सकता है। एक Hardware Engineer के लिए ऐसी Printers के बारे में जानकारी काफी फायदेमंद साबित हो सकती है। इसलिए अपने दोस्तों के साथ शेयर करें। आप भी बताएं की आपको इस लेख में ये points Printer kya hai, printer kinte prakar ke hote hain. printer kaise kary karte hain. पर पढ़कर कैसा लगा।
Previous Post
Next Post

मैं इस वेबसाइट का फाउंडर हूँ। इस साईट के जरिये से लोगों की सहायता करना ही हमारा उद्देश्य है। बहुत से लोग हिंदी में पढना पसंद करते हैं तो यह साइट उनके लिए बहुत उपयोगी साबित हो सकती है। हमसे जुड़े रहने के लिए सोशल मीडिया पर फॉलो करें।

Related Posts

0 comments: