Sep 30, 2018

आंवला का सेवन करने के फायदे, गुण और नुक्सान । Amla Benefits in Hindi

आवले का 20 से 25 फूट का पेड़ होता है जो की एक छोटी बॉल की तरह है फल देता है जिसे हम आंवला कहते हैं। यह एशिया, यूरोप और अफ्रीका में मुख्य रूप से पाया जाता है। आंवले हरे रंग के गूदेदार होते हैं जो स्वाद में खट्टे होते हैं। इन्हें चाशनी द्वारा मीठा बनाया जाता है और बहुत से उपचारों में दवाइयां बनाने के लिए आयुर्वेद में इसका उपयोग होता है। आइये जानते हैं आंवला के गुण लाभ और फायदों के बारे में।

amla ke fayde, amla ke nuksan, amla ke gun, amla benefits amla kaise khaye hindi me jankari, aanwla ka sevan kaise kare, aanwla ke labh, aawnla ek gunkari dawa hai, aanwla se sharir me bahut rahat milti hai

दोस्तों आंवला के बारे में तो आप जानते ही होंगे। आपने आंवले का मुरब्बा भी खाया होगा या फिर Amla Oil का इस्तेमाल तो जरुर ही क्या होगा। इस लेख में हम बात करेंगे आंवला के गुणों के बारे में और आवंला के फायदे और नुक्सान के बारे में। इससे पहले हम नारियल पेड़ के बारे में लिख चुकें हैं।


आंवला एक ऐसा फल है जो बहुत सी बीमारियों को अपनी शक्ति से मात देने की ताकत रखता है। हलाकि होता वह है जो ईश्वर चाहता है। ईश्वर ही बीमारी देता है और बीमारी में फायदा करना भी ईश्वर के ही हाथ में हैं। लेकिन ईश्वर ने इस संसार में काँटों के साथ फल भी दिए हैं और बीमारी के साथ उसका इलाज भी दिया है। बहुत सी बीमारियों में काम आने वाली बेशुमार औषधियां इस दुनिया में आपको मिल जायेंगी। इसी तरह आंवला भी एक औषधि की तरह आयुर्वेदिक दवाओं में काम आने के साथ-साथ लोगों का भोजन भी बनता है। आंवला औषधीय गुणों से भरा हुआ है। इस कारण लोगों के जीवन में आंवला का बहुत महत्व है।

आंवला विटामिन C से भरपूर होने के कारन बालों को झड़ने से रोकने और आँखों की रौशनी को बढाने में सहायक है। आंवले में कैल्शियम, फास्फोरस, आयरन, जिंक, पोटेशियम, विटामिन A, विटामिन E तथा विटामिन B Complex जैसे पोषक तत्व पाए जाते हैं जो शरीर की गर्मी को ख़त्म करने के लिए बहुत उत्तम होते हैं। आमला मधुमेह, हृदय, कैंसर और त्वचा सम्बन्धी रोगों के लिए Antioxidant की तरह काम करता है। आंवले के कुछ लाभ जिनको हमने आपके सामने क्रम से रखकर समझाने की कोशिश की है।

आंवला  के फायदे और गुण । Amla Benefits in Hindi 

यह फल बहुत ही सरलता से मिल जाता है भारत में लगभग हर जगह यह मौजूद है। इसको कई तरीके से उपयोग में लिया जाता है। और्वेदिक दवाओं में, पंसारी के पास मुरब्बे के रूप में तथा बहुत से मेडिकल स्टोर पर इसका तेल आपको मिल जाता है।

1. बालों के लिए है उत्तम:

आंवला बालों की वृद्धि करने और मजबूत बनाने में सहायक है। यह बालों के कलर को भी गहरा करता है। बहुत से बालों के टॉनिक, शैम्पू और तेलों में इसका उपयोग किया जाता है। इसका सेवन करने से और इसका पेस्ट बनाकर बालों में लगाने से बालों की जड़ें मजबूत होती हैं। इसके आयल के उपयोग से कमजोर और दुमुहे बालों का भी खात्मा होता है।


2. दिल के लिए भी है फायदेमंद:

आमला दिल की बिमारियों से बचाव करता है। आवंला का नियमित और सही ढंग से उपयोग करने से दिल मजबूत होता है। ह्रदय से पुरे शरीर में रक्त का संचार सही तरीके से होता है। अमला मधुमेह से भी रक्षा करता है। यह शरीर में मौजूद कोलेस्ट्रोल को कम करके रक्त परिसंचरण को नियत्रण में रखता है।

3. आँखों की रौशनी बढ़ता है आवंला:

आवंला रतौंधी रोग (जैसे की रात में दिखाई नहीं देना) एवं अन्य आँखों के रोगों को कम करता है और मोतियाबिंद जैसे रोगों में भी फायदेमंद है। हर एक इंसान को के लिए नेत्र बहुत अनमोल चीज़ होती है इसलिए सभी चाहते हैं की आँखों की सुरक्षा के लिए वह उपाय किया जाये जिससे फायदा हो।

अमला के जूस में शहद मिलकर पीने से दृष्टी में सुधार होता है तथा उन्नत नजर के लिए यह पीना बहुत फायदेमंद है। आँखों का लाल होना, खुजली होना और पानी आने की समस्या भी आवला खाने से कम हो जाती है। तनाव मुक्ति के लिए अमले का सेवन गुणकारी है।

4. दांतों की मजबूती के लिए:

अगर आप चाहते हैं की आपके दांतों की शक्ति में वृद्धि हो तो आपको आंवले का सेवन करना चाहिए। दांत मानव जीवन का महत्वपूर्ण अंग होते हैं। दांत मनुष्य की ख़ूबसूरती में चार चाँद लगा देते हैं। यह चेहरे की शोभा और भोजन करने के लिए बहुत जरुरी हैं। इसलिए दांतों की फ़िक्र हर आदमी करता है।

स्ट्रेप्टोकोकस म्युटन नाम का बेक्टीरिया जिससे दांतों में कीड़े लगते हैं। आवंला इस स्ट्रेप्टोकोकस म्युटन बेक्टीरिया को ख़त्म कर देता है। आवले में कैल्शियम भी होता है जो दांतों को मजबूत और चमकीला बनाता है।

5. डायबिटीज में करता है फायदा:

डायबिटीज के रोगी जिनको ब्लड सुगर की समस्या है उनके लिए आवले का सेवन बहुत योग्य साबित हो सकता है क्योंकि अमला कोशिकाओं के अलग समूह को को उत्तेजित करता है जिससे हार्मोन इन्सुलिन को छिपाते हैं व रक्त शर्करा को कम करते हैं जिससे शरीर स्वस्थ रहता है। आवंला ब्लड सुगर को कम करता है। आवले से व्यक्ति के शरीर को एनर्जी मिलती है जिससे मानव शरीर में Diabetes रोगों से लड़ने की क्षमता को बढ़ जाती है।


6. संक्रमण से करता है सुरक्षा:

जी हाँ आवंला मानव शरीर में फैलने वाले वायरस से भी हिफाजत करता हैं। आंवले का कसेलापन सक्रंमण को फैलने नहीं देता हैं क्योंकि यह संक्रमित कीटाणुओं को मारकर शरीर से समाप्त कर देता है।

7. मोटापा कम करता है:

आप जानते हैं की मोटापा भी एक बीमारी है। आदमी बिलकुल फिट होना चाहिए ज्यादा मोटे व्यक्ति अपनी मोटापे वाली लाइफ से परेशान रहते हैं। इसलिए आंवला का juce पीने से metabolic activities ठीक रहती हैं तथा शरीर में फैट नहीं बनता है जो की मोटे होने का मुख्य कारन है। उपापचयी क्रियाओं को ठीक रखने के लिए प्रोटीन की आवशयकता होती है और आंवला भी प्रोटीन का बढ़िया स्रोत है।

8. पेशाब इन्फेक्शन को करता है दूर:

आंवला मूत्रवर्धक फल है जो व्यक्ति के शरीर में पेशाब की मात्रा को बढ़ता है जिससे पेशाब इन्फेक्शन बहुत जल्द ठीक हो जाता है। आवंला एक मूत्रवर्धक की तरह कार्य करता है जो हमारे शरीर में से हानिकारक पदार्थों को पेशाब और मल के जरिये से बाहर निकाल देता है। इसके अलावा आंवला का सेवन करने से गुर्दे और गर्भाशय में संक्रमण नहीं होता है।

9. महिलाओं के लिए इसलिए है ख़ास:

आंवला खाने और इसका रस पीने से त्वचा में निखार आता है और चेहरे पर ग्लो आती है। महिलाओं के लिए यह बहुत ही बढ़िया चीज़ है क्योंकि महिलाएं अक्सर अपनी ख़ूबसूरती को लेकर सोचती रहती हैं। आवंला ब्लड को फ़िल्टर करता है जो त्वचा रोगों से बचाता है। आवंला के पाउडर और शहद को मिलाकर लगाने से चेहरा निखर जाता है। इसमें विटामिन और बहुत से लाभदायक पदार्थ होते हैं जो महिलाओं में मासिक धर्म के दौरान होने वाले दर्द और ऐठन से राहत पाने के लिए अच्छा है।

10. खाने की पचावट सही करता है:

यह एक बहुत ही पोपुलर बीमारी है जो लगभग सभी लोगों में हो जाती है। पेट में कब्ज रहना और खाने का नहीं पचना बहुत ही परेशानी का मामला होता है। तो यह आंवला है जो पेट के विकार को दूर करता है और पाचन शक्ति को मजबूत बनाता है। आंवला इस मामले में एक दवाई की तरह काम करता है जैसे की अगर दस्त ज्यादा हों तो कम कर देता है। इसमें फाइबर होता है जो पेट और आँतों में मल को सूखने और जमने नहीं देता है। जिससे मल त्याग में आसानी होती है।

11. Metabolic Activities:

मेटाबोलिक एक्टिविटीज का मतलब है शरीर की चयापचय गतिविधियाँ। शारीरिक विकास और मसल्स तथा सेल को बढ़ने हेतु प्रोटीन जरुरी हैं। प्रोटीन हमारे शरीर को पुष्ठ बनाये रखने में सहायक हैं इसलिए आवला सेवन बढ़िया है क्योंकि इसमें प्रोटीन की मात्रा बहुत होती है।


आवले के नुक्सान । Side Effects of Amla

  • सबसे पहली बात यह है की जिन लोगों को आवंला रास नहीं आता उनको इससे दूर ही रहना चाहिए क्योंकि बहुत से लोगों को अमला से एलर्जी हो जाती है जैसे की सुजन आ जाना, चेहरा लाल हो जाना, खुजली होना, दस्त, उलटी - चक्कर आना, सिरदर्द होना, पेटदर्द होना आदि अगर इस तरह से कोई भी साइड इफ़ेक्ट होता है तो आवंला सेवन बंद कर दें।
  • आंवला का बहुत ज्यादा और लम्बे समय तक उपयोग करने से मल कठोर हो जाता है।
  • हाइपोग्लिसेमिक लोगों में आंवला खाने से स्वास्थ्य में बिगड़ आ सकता है इसलिए नहीं खाना चाहिए।
  • आमले की तासीर ठंडी होती है इसलिए सर्दियों में खांसी जुकाम और ट्रिगर वाले लोगों को इसको खाने से बचना चाहिए।
  • इसका अधिक मात्रा में सेवन गर्भवती महिलाओं के लिए नुक्सान पहुंचा सकता है।
  • डायबिटीज़ के रोगी को दवाई के साथ आंवला खाना हानिकारक हो सकता है इसलिए उनको परहेज करना चाहिए।
  • हम आपको सलाह देना चाहेंगे कि इसका इस्तेमाल करने से पहले एक बार चिकित्सक से परामर्श कर लें क्योंकि बहुत सी बीमारियों और शारीरिक स्थितियों में यह नुकसानदायक हो सकता है।
Previous Post
Next Post

मैं इस वेबसाइट का फाउंडर हूँ। इस साईट के जरिये से लोगों की सहायता करना ही हमारा उद्देश्य है। बहुत से लोग हिंदी में पढना पसंद करते हैं तो यह साइट उनके लिए बहुत उपयोगी साबित हो सकती है। हमसे जुड़े रहने के लिए सोशल मीडिया पर फॉलो करें।

Related Posts

0 comments: